Wednesday, July 6, 2022
spot_img

कौन हैं मास्टर विजय सिंह जो 26 साल से दे रहे हैं धरना? सीएम योगी के खिलाफ नहीं लड़ पाएंगे चुनाव, जानें वजह

गोरखपुर शहर सीट से सीएम योगी आदित्यनाथ बीजेपी के उम्मीदवार हैं. ये बीजेपी की परंपरागत सीट है. बीजेपी पिछले 32 साल से इस सीट से चुनाव नहीं हारी है. सीएम योगी के खिलाफ सपा ने सुभावति शुक्ल को उम्मीदवार बनाया है.

26 साल से अवैध कब्जे के खिलाफ धरना दे रहे मास्टर विजय सिंह (Master Vijay Singh) अब गोरखपुर (Gorakhpur) से सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) के खिलाफ चुनाव (UP Assembly Election) नहीं लड़ सकेंगे. इसी वजह है कि वो नामांकन (Nomination) पत्र ही दाखिल ही नहीं कर पाए. विजय सिंह पिछले 26 साल से भ्रष्टाचार के खिलाफ धरना दे रहे हैं.

वो पश्चिम उत्तर प्रदेश के शामली जिले के रहने वाले हैं. विजय सिंह शामली जिले में चौसाना की चार हजार बीघा जमीन को अवैध कब्जे से मुक्त कराने को लेकर 26 साल से धरना दे रहे हैं.

उन्होंने बीजेपी द्वारा गोरखपुर शहर सीट से बनाए जाने के बाद उनके खिलाफ चुनाव लड़ने की घोषणा की थी.

मास्टर विजय सिंह का नामांकन इस वजह से दाखिल नहीं हो पाया क्योंकि उन्हें प्रस्तावक नहीं मिल पाए और वो नामांकन से वंचित रह गए. मास्टर विजय सिंह ने 3 फरवरी को सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ चुनाव लड़ने का ऐलान किया था. उनका कहा था कि सीएम योगी की ओर से कराई गई जांच में अवैध कब्जा साबित होने के बावजूद भूमाफिया पर कार्रवाई नहीं होने से वो आहत हैं. इसी वजह से गोरखपुर शहर सीट से चुनाव लड़ने का निर्णाय लिया है. चुनाव लड़ने के लिए वो गोरखपुर पहुंच गए थे. उन्होंने बताया कि उन्हें नामांकन के लिए प्रस्तावक नहीं मिले. जिन लोगों को उन्होंने तैयार किया था, वो डर गए हैं.

32 साल से है बीजेपी का कब्जा

गोरखपुर शहर सीट से सीएम योगी आदित्यनाथ बीजेपी के उम्मीदवार हैं. ये बीजेपी की परंपरागत सीट है. बीजेपी पिछले 32 साल से इस सीट से चुनाव नहीं हारी है. सीएम योगी के खिलाफ सपा ने सुभावति शुक्ल को उम्मीदवार बनाया है. वहीं आजाद समाज पार्टी के प्रमुख चंद्रशेखर आजाद ने सीएम योगी के खिलाफ पर्चा दाखिल किया है. बीएसपी ने ख्वाजा समशुद्दीन को उम्मीदवार बनाया है. कांग्रेस ने अभी तक अपने उम्मीदवार के लिए नाम की घोषणा नहीं की है.

गोरक्षनाथ पीठ का प्रभाव

गोरखपुर सदर विधानसभा सीट पर मुख्यमंत्री योगी के गोरक्षनाथ पीठ का प्रभाव माना जाता है. इस सीट पर जीत के लिए गोरक्षपीठाधीश्वर का आशीष बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है. गोरखपुर सदर विधानसभा में मतदाताओं की संख्या 428086 है. इसमें पुरुष मतदाताओं की संख्या 199986 और महिला मतदाताओं की संख्या 157134 है. 2017 के विधानसभा चुनाव में सभी राजनीतिक दलों ने इस सीट पर जोर आजमाइश की लेकिन डॉ. राधा मोहन दास अग्रवाल ने 122221 वोट पाकर कांग्रेस के राणा राहुल सिंह को मात दे दी. वहीं 2012 विधानसभा में डॉ. राधा मोहन दास अग्रवाल ने 81148 वोट पाकर समाजवादी पार्टी की राजकुमारी देवी को हराया.

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
3,381FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles