Monday, January 17, 2022
spot_img

अफगानिस्तान और म्यांमार में बंदूक से सत्ता हासिल करने वालों को UN ने दिया बड़ा झटका

बंदूक की दम पर अफगानिस्तान की सत्ता पर काबिज तालिबान और म्यांमार में तख्तापलट करने वाली सैन्य सरकार के मंसूबों पर संयुक्त राष्ट्र ने पानी फेर दिया है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अफगानिस्तान और म्यांमार को संयुक्त राष्ट्र महासभा में बोलने का मौका नहीं दिया जाएगा।

संयुक्त राष्ट्र महासभा के 76वें सत्र के उच्च स्तरीय आम चर्चा के आखिरी दिन के वक्ताओं की सूची में अफगानिस्तान और म्यांमार से किसी वक्ता का नाम शामिल नहीं है। शुक्रवार को, महासचिव के प्रवक्ता, स्टीफन दुजारिक ने कहा था कि ‘अभी तक’, सोमवार के लिए सूची में अंकित अफगानिस्तान के प्रतिनिधि गुलाम एम. इसाकजई हैं। 

म्यांमार में तख्तापलट के बाद, इसके सैन्य शासकों ने कहा है कि संयुक्त राष्ट्र में देश के राजदूत क्याव मो तुन को बर्खास्त कर दिया गया है और वे चाहते हैं कि आंग थुरिन उनकी जगह लें।

सैन्य अधिग्रहण के हफ्तों बाद गत 26 फरवरी को महासभा की बैठक में तुन ने देश में लोकतंत्र को बहाल करने के लिए ‘अंतरराष्ट्रीय समुदाय से मजबूत संभव कार्रवाई’ करने की अपील की थी।

उधर, विदेशी सैनिकों की वापसी के बाद हाल ही में लोकतांत्रिक सरकार को उखाड़कर बंदूक के सहारे सत्ता पर कब्जा जमाने वाले तालिबान की इच्छा भी पूरी नहीं हो पाई। पिछले सप्ताह तालिबान ने संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतिनो गुआतरेस को खत लिखकर अपने प्रवक्ता सुहैल शाहीन को संयुक्त राष्ट्र में अपना दूत नियुक्त करने और महामसभा को संबोधित करने का मौका देने की मांग की थी।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,117FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles