Thursday, January 27, 2022
spot_img

लखनऊ समेत यूपी के आठ जिलों में पटाखे बेचने वाले 61 लोगों पर एफआईआर

लखनऊ। प्रमुख संवाददाता -राजधानी लखनऊ समेत प्रदेश के 12 जिलों में पटाखे जलाने पर लगाई गई रोक का कोई असर नहीं दिखा। प्रदेश के अन्य जिलों की तरह इन जिलों में भी दीपावली के मौके पर जमकर आतिशबाजी की गई। प्रतिबंध के बावजूद इन जिलों में पटाखों की बिक्री भी हुई। पटाखों की बिक्री को लेकर लखनऊ समेत आठ जिलों में पुलिस ने 61 एफआईआर दर्ज की है। डीजीपी मुख्यालय के अनुसार कमिश्नरेट लखनऊ में 2, बागपत में 6, मुजफ्फरनगर में 17, वाराणसी में 2, कमिश्नरेट गौतमबुद्धनगर में 6, हापुड़ में 7, बुलंदशहर में 11 और मेरठ में 10 एफआईआर दर्ज की गई है। 

इससे पहले शासन ने प्रदेश के 12 जिलों में पटाखों की बिक्री के संबंध में पूर्व में जारी लाइसेंस स्थगित कर दिए थे। राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) के आदेश के अनुपालन में इन जिलों में पटाखों की बिक्री और उसके इस्तेमाल पर पहले ही प्रतिबंध लगा दिया गया था। जिन जिलों में पूर्व में जारी आतिशबाजी (फायर क्रेकर्स) के लाइसेंस स्थगित किए गए थे उनमें मुजफ्फरनगर, आगरा, वाराणसी, मेरठ, हापुड़, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर, बुलंदशहर, कानपुर, लखनऊ, मुरादाबाद और बागपत शामिल थे।

हवा की गुणवत्ता के सूचकांक (एक्यूआई) के आधार पर इन जिलों को एनजीटी ने अपने आदेश में अलग-अलग श्रेणियों में रखा है। एक्यूआई के हिसाब से मुजफ्फरनगर को खराब, आगरा, वाराणसी, मेरठ व हापुड़ को बहुत खराब तथा गाजियाबाद, कानपुर, लखनऊ, मुरादाबाद, गौतमबुद्धनगर (नोएडा व ग्रेटर नोएडा), बागपत व बुलंदशहर को गंभीर की श्रेणी में रखा है। गंभीर श्रेणी के जिलों में एक्यूआई 401 से ज्यादा है, जबकि बहुत खराब श्रेणी के जिलों में 301 से 400 तक है। इसी तरह खराब श्रेणी के जिले में 201 से 300 है। 

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,143FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles