Thursday, January 27, 2022
spot_img

बुखार, बदन दर्द और थकावट होने पर सावधानी जरूरी-डॉ पंकज कुमार सिंह

जौनपुर(हेल्थ डेक्स)- बुखार, बदन दर्द और ज्यादा थकावट होने पर सावधानी की जरूरत है। यह लक्षण दिखने पर नौ दिन सतर्कता जरूरी है। यह कोरोना संक्रमण का शुरुआती लक्षण हो सकता है। इस अवधि में वायरस बढ़ोतरी करता है। यह कहना है जौनपुर के प्रसिद्द फिजिशियन श्रद्धा हॉस्पिटल के डॉ पंकज कुमार सिंह का। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण से डरने की जरूरत नहीं है। जरूरी यह है कि बुखार होने पर गंभीरता बरतें।

Dr.Pankaj kumar singh ( Shraddha hospital)

उन्होंने कहा कि अनलॉक के बाद से लोगों में कोरोना के प्रति गंभीरता कम हुई है। मास्क भी बहुत कम लोग उपयोग कर रहे हैं। कोरोना से पीड़ित एक तिहाई मरीजों में तीसरे या चौथे दिन स्वाद और सुगंध चली जाती है।

इसलिए इस पैमाने का ध्यान रखना चाहिए। अक्सर लोग बुखार होने पर मलेरिया, डेंगू, टायफायड समझकर इलाज कराते हैं जबकि यह कोरोना भी हो सकता है। डॉ सिंह ने कहा कि ऐसे भी मरीज सामने आए हैं जिनके कोरोना टेस्ट तो निगेटिव रहे लेकिन चेस्ट के सीटी स्कैन में यह बीमारी सामने आई। इसलिए लक्षणों पर हमेशा ध्यान रखना चाहिए।

भाप लेना सबसे जरूरी

डॉ पंकज कुमार सिंह ने बताया कि कोरोना से लड़ाई में भाप सबसे बड़ा हथियार है। बाहर से घर आने पर तीन से चार मिनट की भाप जरूरी लेनी चाहिए। इससे वायरस को फेफड़ों तक पहुंचने से पहले खत्म करना संभव है।

वायु प्रदूषण से सीधा संबंध

वायु प्रदूषण ज्यादा होने से कोरोना का सीधा संबंध है। महीन धूलकणों से चिपककर वायरस सांस के माध्यम से आसानी से प्रवेश कर सकता है। इससे बचाने में सबसे उपयोगी मास्क होता है।

ये सावधानी जरूरी

-एन 95 मास्क केवल आठ घंटे तक इस्तेमाल कर सकते हैं

-जिन लोगों को कोरोना हो चुका है उन्हें भी सावधान रहना चाहिए

-ढाई से तीन लीटर गर्म पानी रोज पीना जरूरी, जाड़े में पानी पीना कम न करें

-डॉक्टरों की सलाह पर विटामिन सी, विटामिन डी 3, विटामिन ई, जिंक लें

-रोजाना कम से कम आधा घंटा धूप में बैठें

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,143FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles