Monday, January 17, 2022
spot_img

24 जून 2021 लोकतंत्र का “विजयी दिवस” और 26 जून 1975 लोकतंत्र का “काला दिवस”-इंद्रेश कुमार

इंद्रेश कुमार

24 जून जम्मू-कश्मीर सर्वदलीय बैठक की पूर्ण सफलता पर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी गृह मंत्री श्री अमित शाह को बहुत-बहुत बधाई एक बात स्थापित हो गई कि अब 370 और 35A फिर से लागू करने की आवाज जम्मू कश्मीर में नहीं उठेगी।
सबने मान लिया 370 और 35A चला गया,दूसरी बात परिसीमन को स्वीकार कर लिया गया है तीसरी बात सबको चुनाव की उम्मीद हो गई है और चौथी बात पाकिस्तान से वार्ता करनी चाहिए इसका कोई समर्थन उस बैठक में नहीं था।
एन.सी.पी और कांग्रेस भी इसके विरोध में चले गए पीडीपी का स्वर भी बदल गया और इसलिए पाकिस्तान से वार्ता कश्मीर समस्या के समाधान के लिए करनी चाहिए इस विषय से भी मुक्ति हो गई है।
सब ने यह मान लिया कि वहां पर 370 और 35A हटाने के बाद विकास भी हो रहा है शांति भी है और तेज गति से वातावरण भी बदल रहा है। इसलिए अब यह पूरी तरह से एक बहुत बड़ी सफलता कहना हो तो 23 जून स्वर्गीय श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान को सच्ची श्रद्धांजलि 24 जून की सर्वदलीय जम्मू कश्मीर बैठक में से उभरी है।
इतना ही नहीं है 25-26 जून श्रीमती इंदिरा गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी ने लोकतंत्र की हत्या करने का एक बड़ा पाप और अपराध किया था।
परंतु 24 जून में लोकतंत्र की रक्षा करने का संकल्प कैसा महान होता है और लोकतंत्र को कैसे सम्मानित किया जाता है इसका उदाहरण भी 24 जून की सर्वदलीय बैठक जम्मू कश्मीर से प्राप्त हुआ।
25-26 जून सन 1975 भारतीय संविधान का काला दिवस था जब लोकतंत्र में विश्वास रखने वाले कांग्रेस ने ही श्रीमती इंदिरा गांधी के नेतृत्व में पूरी तरह से लोकतंत्र को कुचलने के लिए आपातकाल घोषित किया।
लोकतंत्र बुरी तरह से आहत हुआ सभी नेता जेल में डाले गए और सबसे बड़ा दुर्भाग्य था वह था कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जैसे लोकतांत्रिक राष्ट्रवादी और जीवन मूल्य वाले संगठन को भी जबरदस्ती प्रतिबंधित करके उनके लोगों को भी हजारों की संख्या में जेल में डाल दिया गया।

इसलिए मैं सब से अपील करूंगा की 25-26 जून को भारतीय लोकतंत्र का कांग्रेस द्वारा हत्या करने के दिवस के रूप में इसको स्मरण किया जाए और संकल्प किया जाए किसी को भी लोकतंत्र की हत्या करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।
पुनः मैं सब से अपील करता हूं कि 26 जून यह कांग्रेस के द्वारा भारतीय लोकतंत्र की हत्या का “काला दिवस” इस रूप में मनाया जाये।

जय हिंद जय भारत।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,117FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles