Saturday , July 4 2020 [ 7:25 AM ]
Breaking News
Home / अंतरराष्ट्रीय / महाशक्ति में लाशों का ढेर!…फिर भी जल्द लॉकडाउन खोलना चाहते हैं ट्रंप
महाशक्ति में लाशों का ढेर!…फिर भी जल्द लॉकडाउन खोलना चाहते हैं ट्रंप Capture 34 536x330

महाशक्ति में लाशों का ढेर!…फिर भी जल्द लॉकडाउन खोलना चाहते हैं ट्रंप

अमेरिका में कोरोना वायरस (Corona cases in World) की वजह से मौतों का आंकड़ा दिनोंदिन बढ़ता जा रहा है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के करीबी का कहना है कि उन्हें काम पर जाने से भी डर लग रहा है।

महाशक्ति में लाशों का ढेर!…फिर भी जल्द लॉकडाउन खोलना चाहते हैं ट्रंप Capture 34

वॉशिंगटन
अमेरिका का राष्ट्रपति भवन वाइट हाउस (White House) इन दिनों कोरोना वायरस (coronavirus in America) का हॉटजोन बना हुआ है। यहां राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) और उपराष्ट्रपति माइक पेंस के करीबी कुछ लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसकी वजह से राष्ट्रपति के एक करीबी ने यह भी बयान दिया कि उन्हें काम पर जाने में डर लग रहा है। कोरोना वायरस टास्क फोर्स (Coronavirus Task Force) के सदस्य, जिसमें सीडीसी और एफडीए के हेड (ये टॉप एजेंसियां इस महामारी की रोकथाम में लगी हुई हैं) शामिल हैं। उन्हें खुद को क्वारंटीन में रखना पड़ा है। वे एक ऐसे शख्स के संपर्क में आए थे, जिसमें इस महामारी के लक्षण तो नहीं थे लेकिन वह कोरोना पॉजिटिव था।

एक कार्यक्रम के दौरान कही यह बात
इन तमाम परिस्थितियों को देखते हुए अमेरिका में इकॉनमी को खोलने की कोशिशों के बीच बहुत डर है। राष्ट्रपति के करीबी सलाहकार केविन हैजेट ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि उन्हें काम पर जाने में भी डर लगता है। यहीं नहीं, इस बात की भी जानकारी सामने आई है कि नैशनल गार्ड ब्यूरो के चीफ जोसेफ लेंग्येल और नैवी के टॉप एडमिरल माइकल गिल्डाव भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे।

इसी तरह से दो टॉप मिलिटरी जनरल भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। सेनेट हेल्थ कमिटी का भी एक कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव था। इसकी वजह से कमिटी को विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत करनी पड़ी। इन सब खतरों के बावजूद शीर्ष नेतृत्व इस बात का दबाव बना रहा है कि जल्द से जल्द बिजनस को खोल दिया जाए ताकि इकॉनमी को पुनर्जीवित किया जा सके। हालांकि, इस तरह से कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी आ सकती है। ट्रंप ने सोमवार को एक ट्वीट किया था। इसमें उन्होंने कहा था, ‘कोरोना मामलों से संक्रमित लोगों की संख्या में अब कमी देखी जा रही है। बहुत तेजी से सुधार देखा जा रहा है। हमारी कोशिशों की सभी ने बहुत प्रशंसा की है।

विशेषज्ञों की यह बात होश उड़ा देगी
अमेरिका में कोरोना के मामलों को देखा जाए तो यहां रविवार तक इस महामारी से 80 हजार लोग मारे जा चुके हैं। ऐसे में दुनिया में मरने वाले लोगों में हर तीसरा व्यक्ति अमेरिका का है। हालांकि, रविवार को प्रतिदिन मौतों की संख्या में कमी देखी गई है यह 803 हो गया। एक अप्रैल के बाद यह दूसरा मौका है जब आंकड़ा 1000 से नीचे चला गया है। विशेषज्ञों का मानना है कि यदि अमेरिका लॉकडाउन खोलने के खतरे को उठाता है तो अगस्त तक मृतकों की संख्या बढ़कर 1 लाख 35 हजार तक पहुंच सकती है।

वुहान में जब फिर से दिखा कोरोना
इन सबके बीच इस बात पर भी गौर करना जरूरी है कि वुहान इस महामारी का ग्राउंड जीरो था। यहां पर कोरोना के मामले खत्म होने के बाद जब लॉकडाउन खोला गया तो वहां फिर से महामारी के असर को देखा गया। यही नहीं, शंघाई में दुनिया का एक डिज्नीलैंड है, इसे महामारी की वजह से तीन महीने बाद फिर से खोला गया है।

About Arun Kumar Singh

Check Also

भदेठी: दलितों के घर जलाने वाले नहीं बख्शे जाएंगे -गिरीश चन्द यादव,भाजपा ने दिए राशन, कपड़े और जरूरत मन्द सामान Capture 9 310x165

भदेठी: दलितों के घर जलाने वाले नहीं बख्शे जाएंगे -गिरीश चन्द यादव,भाजपा ने दिए राशन, कपड़े और जरूरत मन्द सामान

जौनपुर के भादेथी गाव की आगजनी घटना पर पहुचे मंत्री गिरीश यादव साथ में है …

Leave a Reply

Copyright © 2017, All Right Reversed.